स्वास्थ्य के लिए क्यों जरूरी है राजमा? जानें इसके फायदे और नुकसान

राजमा को डाइट में शामिल करना एक अच्छा  विकल्प साबित हो सकता है। इसके सेवन से अनेक समस्याओं से बचा जा सकता है ओर शरीर में कुछ परेशानियों को भी पैदा करता है। इसलिए हम आज आपको राजमा के फायदा ओर नुकसान बताने वाले है। अगर आप भी राजम का सेवन करते है तो इस के फायदे ओर नुकसान जानने के लिए इस लेख को पूरा पढे।  

राजमा के फायदे : राजमा के अंदर उच्च रक्तचाप को कम करने के गुण पाए जाते हैं। इसके अंदर घुलनशील फाइबर, पोटेशियम, मैग्नीशियम आदि भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जो रक्तचाप को  सामान्य बनाए रखने में मदद करते हैं। पोटैशियम, मैग्निशियम धमनियों और वाहिकाओं को फैलाने का काम करते हैं। वहीं इनके माध्यम से रक्त प्रभाव भी सही हो जाता है। यह सिरदर्द और माइग्रेन की समस्या को दूर करने में भी उपयोगी होता है।

राजमा में जटिल कार्बोहाइड्रेट और आहार फाइबर की उच्च सामग्री रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करती है। घुलनशील फाइबर कोलेस्ट्रोल को चारों ओर एक रक्षा कवच की तरह फैलने से रोकती है। जो शरीर में कोलेस्ट्रॉल के पुर्नअवशोषण को रोकने मे मदद करता है। 

राजमा में मौजूद मैंगनीज और कैल्शियम हड्डियों को मजबूत बनाते हैं और ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने में मददरूप होता हैं। राजमा में पाए जाने वाला फोलेट हड्डी और जोड़ों के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है जो हड्डियों के रोगों और फ्रैक्चर के जोखिम को कम करते है।

बहुत सारे खाद्य पदार्थ इन दिनों संरक्षक के साथ भरे हुए हैं, जिसमें सल्फ़ोइट्स पाए जाते हैं। उच्च सल्फाइट सामग्री को शरीर के लिए विषाक्त माना गया है। राजमा सल्फाइट एलर्जी वाले लोगों के लिए भी फायदेमंद साबित होता है क्योंकि इसकी नियमित खपत के बाद एलर्जी के लक्षण तेजी से कम होते हैं।

राजमा में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट मुक्त कण से छुटकारा पाने और हमारे शरीर की कोशिकाओं की सुरक्षा के द्वारा प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने मे मदद करते हैं। विटामिन बी६ विकास और त्वचा और बालों की मरम्मत में मदद करता है। यह बालों के गिरने को रोकने में भी मददरूप होता है। 

राजमा में उच्च मात्रा में मैग्नीशियम पाया जाता है जो कोलेस्ट्रॉल को मॅनेज करने के लिए कार्य करता है और शरीर को स्ट्रोक, संवहनी रोगों, धमनियों की जमावट, दिल के दौरे जैसे हृदय से जुड़ी बीमारियों से लड़ने में मदद करता है और एक मजबूत हृदय बनाने मे मदद करता है। 

राजमा के फायदे कैंसर की बीमारी में भी उपयोगी  माने जाते हैं। राजमा खाने से शरीर के अंदर बायोएक्टिव यौगिक की पूर्ति होती है, जो कैंसर से बचाने में मदद करता है। साथ ही इससे कई पुरानी बीमारियां भी अपने आप ठीक होती हैं। अगर राजमा के साथ एंटीऑक्सीडेंट युक्त अन्य कोई खाद्य पदार्थ लिया जाए, तो यह शरीर में होने वाली ऑक्सीडेशन की प्रक्रिया को कम कर देता है और कैंसर जैसे बीमारी को धीरे-धीरे कम करने मे मदद करता है। 

राजमा के गुण वजन घटाने में सहायक माने जाते हैं। राजमा में फाइबर पर्याप्त मात्रा में होता है। फाइबर वजन को नियंत्रित करने मे मदद करता है। रिपोर्ट के अनुसार, फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ शरीर में अतिरिक्त कैलोरी बढ़ाए बिना पेट को भरने का काम करते हैं। इसके साथ ही इसमें रेसिस्टेंट स्टार्च पाया जाता है जो मोटापे से निजात पाने में आपकी मदद करता है। 

राजमा के नुकसान : यह शरीर में फाइबर की मात्रा को बढ़ा देता है, जिससे पाचन तंत्र में गड़बड़ी आती है। राजमा के अधिक सेवन से पेट दर्द, आंखों में दर्द, पेट में गैस आदि की समस्या पैदा होती है। राजमा अच्छी तरह से पका हुआ होना चाहिए क्योंकि कच्चे राजमा का सेवन पेट दर्द का कारण बन सकता है।

एक कप राजमा में १३ g आयरन होता है, जबकि हमारे शरीर को डेली २५ g से ३८ g तक आयरन की ज़रूरत होती है। अधिक मात्रा में राजमा का सेवन शरीर में आयरन की मात्रा को बढ़ा देता है जो शरीर के अंग को डॅमेज भी कर सकते हैं।