इस फल का सेवन आपको रखेगा कई बीमारियों से दूर, बढ़ाएगा आपकी इम्यूनिटी सिस्टम

नाशपाती को हमारे यहां सिर्फ एक फल के तौर पर देखा जाता है लेकिल इसमे कई पोषक तत्वों पाए जाते है जो सेहत के लिए फायदेमंद साबित होते है। नाशपाती में मौजूद खनिज, विटामिन और आर्गेनिक सामग्री स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होती है। इसलिए हम आपके लिए लेकर आए है नाशपाती के फायदे। जानने के लिए इस लेख को पूरा पढे। 

नाशपाती में फाइबर का खजाना होता है। फाइबर की वजह से नाशपाती पाचन तंत्र मजबूत बनता है। इसमें मिलने वाला पेक्टीन नामक तत्व कब्ज के लिए रामबाण उपाय है। नाशपाती में प्रचुर मात्रा में आयरन पाया जाता है, जो हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाता है। अगर कोई एनीमिया से पीड़ित हो तो उसे प्रचुर मात्रा में नाशपाती का सेवन करना चाहिए। 

अगर आपको हड्ड‍ियों से जुड़ी कोई समस्या है तो नाशपाती का सेवन आपके लिए फायदेमंद साबित होता है। इसमें बोरॉन नामक रासायनिक तत्व पाया जाता है जो कैल्शियम लेवल को बनाए रखने में कारगर साबित होता है। नाशपाती में कुछ ऐसे तत्व  पाए जाते हैं जो बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने का काम करते हैं। बैड कोलेस्ट्रॉल की वजह से शरीर मे कई बीमारियों आती है। 

नाशपाती सबसे कम कैलोरी वाले फलों में से एक हैं। इसमें मौजूद फाइबर से आपको अपना पेट भरा हुआ महसूस होता है। इसलिए जो लोग अपना वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं उनके लिए नाशपाती बहुत ही अच्छा फल साबित होता है। यह एक उच्च-ऊर्जा, उच्च-पोषक आहार माना जाता है।

इसी तरह इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन-सी की गतिविधियों से शरीर की रोगप्रतिकारक शक्ति को बढ़ाया जाता है। विटामिन सी लंबे समय से रोप्रतिकारक शक्ति के लिए फायदेमंद साबित होता है, क्योंकि यह सफेद रक्त कोशिका और गतिविधि को उत्तेजित करता है। नाशपाती से एक त्वरित रोगप्रतिकारक शक्ति को बढ़ावा देने में मदद मिलती है। 

नाशपाती में फाइबर की मात्रा अधिक पायी जाने के कारण यह दयाबीटीस में लाभदायक होता है। आयुर्वेद के अनुसार नाशपाती के सेवन से दयाबीटीस के लक्षणों को कुछ हद तक कम किया जा सकता है क्योंकि इसमें रसायन गुण मौजूद होता है जो शरीर को स्वस्थ रखने में सहयोग देते है। 

नाशपाती के सेवन से हृदय रोगों को कम करने में भी कुछ हद तक कामयाबी मिलती है क्योंकि इसमे ह्रदय से सम्बंधित परेशानी जैसे कोलेस्ट्रॉल आदि को रोकने की क्षमता होती है। साथ ही रसायन गुण होने के कारण यह सम्पूर्णतः स्वस्थ रखने में भी मदद करता है।  

नाशपाती इम्यूनिटी सिस्टम बढ़ाने में मददगार साबित होता है। ज्‍यादातर बीमार रहने वाले लोगों को ये जरूर खना चाहिए। नाशपती में फाइबर और पैक्टिन नामक तत्व होते हैं, जो कब्ज को ठीक करने मे मदद करते है। नाशपती में लैक्टिक एसिड होने के कारण यह होंठों के लिए अच्छा माना जाता है। कई सारे सौन्दर्य प्रसाधन में इसका प्रयोग किया जाता है। 

नाशपाती के सेवन से चेहरे पे झुर्रिया भी नहीं पड़ती। यह विटामिन सी से भरा होता है। अगर त्वचा तेलीय है तो भी नाशपाती उसके लिए भी रामबाण इलाज है। यह प्राकृतिक रूप से स्क्रब के काम भी आता है। आप इसके प्रयोग से डेड स्कीन कोशिका को बाहर निकाल सकते हैं। 

नाशपाती में बालों को स्वस्थ्य और पौष्टिक बनाने की क्षमता पायी जाती है। नाशपाती में ‘सोर्बिटोल’ या ‘ग्लुसिटोल’ नामक एक प्राकृतिक शर्करा होती है, जिससे बाल नमी युक्त बने रहते हैं। बालों के नमी युक्त होने के कारण यह बालों के सूखेपन को कम करता है। विटामिन सी के कारण बालों की प्राकृतिक रूप से कंडीशनिंग होती है। साथ ही यह बालों की कोशिकाओं को स्वस्थ बनाये रखने में भी मदद करता है। 

नाशपाती का रस प्राकृतिक और त्वरित ऊर्जा से भरा होता है, क्योंकि इसमें उच्च फ्रुक्टोस और ग्लूकोस की मात्रा पायी जाती है। नाशपाती के रस से शारीर को ठंडा प्रभाव पड़ता है, जिससे बुखार में राहत मिलती है। नाशपाती के रस को नियमित रूप से पीना सर्दी से पीड़ित व्यक्ति के लिए बहुत मददगार साबित होता है क्योकि यह ठण्ड से राहत दिलाता है। इसलिए यह सर्दी जुकाम और गले में खराश के घरेलू उपचार के लिए अच्छा विकल्प माना जाता है।